News

OUR PROGRAMS

BHARAT KO JANO

img

Bharat Ko Jano(BKJ) competition is one of the most popular 'Sanskar' program of Bharat Vikas Parishad. Its success and popularity is increasing exponentially each year.

Kashi Prant (Zone VI) is privileged to organize the 14th All India “Bharat Ko Jano” Competition.

This "Bharat Ko Jano" programme has generated great interest among the students. Now over 10 lakhs students from over 6,500 schools annually participate in this programme.

NATIONAL SANSKRIT GROUP SONG COMPETITION

img

In cultivating a feeling of nationalism and in giving Sanskars to the youth of the country the role of songs is undisputed. Sanskrit is integral part of Indian culture. In a judgment given on 10th October 1994, the Supreme Court emphasized that the study of Sanskrit language should made compulsory to bring back the glory of our ancient culture.

Keeping in view the above facts the Parishad has accepted "National Sanskrit Group Song competition " as a national project. For this a book entitled " Rashtra Geetika " has been published where more than 30 songs are given in Sanskrit.

BAL & YUVA SANSKAR

img

Bharat Vikas Parishad organises camps for students and youth every year. In addition, workshops, seminars and meetings are organized from time to time to inculcate moral, cultural and human values in the families and all sections of the society.

These camps are well attended and discourses are given by saints, scholars and thinkers.

During the year 2014-15, 152 branches organised 237 Sanskar Shivirs / Yoga camps in which a total of 17,903 children and youth participated.

GURU VANDAN CHATRA VANDAN

img

Primary purpose of this programme is to STRENGTHEN in the minds of children the idea of respecting their parents & teachers, whose blessings will enable them to be successful in life.

Under this programme, the representatives of Bharat Vikas Parishad visit selected Schools, Colleges or any other Institutions (SCIs) in and around their areas to express thanks and gratitude to the teachers and congratulate the meritorious students.This program is important to redevelop the fast deteriorating Teacher - Student relationship.

PROJECTS

  • नारायणपुर श्मशान घाट , स्नानघर वर धर्मशाला - शव दाह हेतु दुखी परिजनों को परेशानियों से थोड़ी राहत मिले इस उद्देश्य से स्थानीय नागरिकों के लिए एक श्मशान घाट व साथ साथ स्नानघर व धर्मशाला का निर्माण कराया गया है | इस परियोजना में लगभग 40 लाख की धनराशि व्यय हुई |

  • स्वामी विवेकानंद की विशाल प्रतिमा का निर्माण - प्रांत की सत्यम शाखा द्वारा स्वामी विवेकानंद जी की एक विशाल प्रतिमा वाराणसी नगर के कैंटोमेंट क्षेत्र में स्थापित की गई है |

    img इस दर्शनी विशाल प्रतिमा के चारों ओर पार्क एवं पार्श्व भाग में कन्याकुमारी (जहां विश्व प्रसिद्ध स्वामी विवेकानंद स्मारक स्थित है ) का स्वरूप निर्मित किया गया है| इस प्रतिमा की स्थापना सन 2002 में हुई और इस सत्र की खास बात यह थी कि इस सत्र की खास बात यह थी की सत्यम शाखा की तीनों दायित्वधारी महिलाएं थी| संत सत्र 2002 की तत्कालीन अध्यक्ष श्रीमती नीति कपूर की अध्यक्षता में राष्ट्रीय पदाधिकारी श्री नारायण खेमका जी के निर्देशन में इसका निर्माण हुआ जिसने लगभग 1000000 रुपए का व्यय हुआ|

  • काशी में हरिश्चंद्र घाट पर विश्राम गृह का निर्माण - प्रांत की शिवम शाखा द्वारा शव के साथ आए यात्रियों के विश्राम हेतु एक विश्रामगृह की स्थापना हरिश्चंद्र घाट पर की गई जिसमे 7 लाख से अधिक का व्यय हुआ इस विश्राम गृह का निर्माण तत्कालीन प्रांतीय अध्यक्ष श्री कैलाश नाथ वह शाखा अध्यक्ष श्री अमरनाथ अग्निहोत्री के कार्यकाल में हुआ |

  • गाजीपुर में मार्कंडेय महादेव मंदिर पर सेवा कार्य - प्रान्त की गाजीपुर शाखा ने मार्कंडेय महादेव मंदिर पर होने वाली जल की समस्या को दूर करने हेतु एक समर्सिबल पंप एवं पानी की टंकी का निर्माण कराया जिससे वहां आने वाले दर्शनार्थियों को काफी सुविधा मिली इस परियोजना पर लगभग 500000 रुपए खर्च हुए |